Yeh Rishta Kya Kehalata Hai Tv Serial episode 55 Best story

Yeh Rishta Kya Kehalata Hai Tv Serial episode 55 season 1st

यह कहानी एक सिरियल ये रिश्‍ता क्‍या कहलाता है के आधार पर बनायी गयी है जो पढने मे बहुत ज्‍यादा आकर्षित है। यह आपको yeh rishta kya kehlata hai instagram, yeh rishta kya kehlata hai fb, yeh rishta kya kehlata hai dance songs पर आपको शार्ट विडियो के रूप में और latest story of yeh rishta kya kehlata hai, upcoming story of yeh rishta kya kehlata hai  को आप watch yeh rishta kya kehlata hai on hotstar देख सकतें हैं।

आज हम yeh rishta kya kehlata hai episode  55 को देखेंगें।

आज के इस पोस्‍ट मे हम yeh rishta kya kehlata hai serial, yeh rishta kya kehlata hai hotstar, yeh rishta kya kehlata hai on hotstar के बारे मे बात करेगें।

yeh rishta kya kehlata hai full episode. पिछली पोस्ट में हमने यह देखा कि किस तरह से अक्षरा नैतिक एक दूसरे के ख्यालों में खोए रहते हैं और अक्षरा की मां शादी को लेकर कितनी व्यस्त दिखती है।

yeh rishta kya kehlata hai episode 55

yeh rishta kya kehlata hai serial नैतिक और अक्षरा की है जो उदयपुर मे अपने पुरे परिवार के साथ रहते हैं। यह कहानी उनके शादी से लेकर माता – पिता बनने तक का है।

तो चलिए yeh rishta kya kehlata hai aaj ka episode के तरफ बढतें हैं।

जब नैतिक अपने पूरे परिवार के साथ खाना खा रहा था कि तभी नैतिक की बड़ी मां बोली वो संकरी आई थी आज। तब नैतिक के बड़ेपापा बोले संदेशा लेकर समधी जी का। फिर नैतिक की दादी बोली हां। तब नैतिक के बड़ेपापा ने पूछा क्या कहा उन्होंने? तब नैतिक की बड़ी बोली मान गए वो लोग कल आने को राजी हैं। तब नैतिक के पापा बोले अरे यह तो बहुत अच्छी खबर है। चलो इसी बात पर मुंह मीठा हो जाए और सभी खाने लगे।

yeh rishta kya kehlata hai naitik

फिर नैतिक के बड़ेपापा जी बोले कल मुन्ना के ससुराल वाले आ जाएंगे रसम भी कल ही हो जाएगा और पंडित जी को बुलवा लेंगे और मुहूर्त भी निकलवा लिया जाएगा। और फिर नैतिक के पापा से बोले राजपन्ना मुंशी के साथ बैठ जाना और थोड़ा हिसाब किताब भी देख लेना। और फिर नैतिक के पापा और नैतिक के बड़ेपापा जी वहां से चले गए। तब उसकी बड़ी मां रश्मि से बोली रश्मि जरा चल तो मेरे साथ मैंने तेरे लिए कुछ संभाल कर रखा है कल तिलक में वहीं पहनना और फिर रश्मि अपनी दादी के साथ चली जाती है।

तब नैतिक की मां नैतिक से पूछती है क्या हुआ मुन्ना कुछ कहना है? तुझे तब नैतिक बोला मां वो मैं कह रहा था कि वो से वो लोग कल कितने बजे तक आ जाएंगे मेरा मतलब है मुझे भी कुछ जरूरी काम है इसलिए। तब उसकी मां बोली तिलक के दिन काम कल तुम कोई काम नहीं करेगा समझा वैसे भी दो-तीन घंटे की ही तो बात है। तब नैतिक बोला दो-तीन घंटे थोड़े ना लगेंगे मां जब वो लोग आएंगे तब आप चाहेंगे कि वो लोग आए हैं तो थोड़ी देर रह जाए आपकी बहू भी रसोई देखेगी। मैं तो इन सब में बोर हो जाऊंगा। तब उसकी मां बोली बुद्धू कहींका लड़कियां नहीं आती तिलक में और फिर नैतिक सोच में पड़ जाता है।

yeh rishta kya kehlata hai akshara

इधर अक्षरा को बोलती है कब से तुम्हें बता रही हूं एक भी answer तुम्हें याद नहीं है। मेरा रात भर जग कर notes बनाने का क्या फायदा होगा? तुमने पढ़ा तक नहीं तब अक्षरा बोली लेकिन वर्षा अब एक भी चीज याद नहीं है ऐसा लगता है कल तक सब कुछ भूल जाउंगी और फिर फेल हो जाउंगी। तब वर्षा बोली हर एग्जाम से पहले ना तुम्हारा यही हाल था Dont worry  तुम फेल नहीं होगे। और हां अब तुम शादी वगैरह भूलकर अपने पढ़ाई में मन लगा और देखना कैसे सब याद हो जाएगा।

तभी उधर से अक्षरा की मां उसे आवाज लगाती हुई उसके कमरे में आ जाती है और बोलती है अक्षरा बेटा तुम्हारे ससुराल से फोन आया था वो लोग कल ही तिलक की रस्म रख रहे हैं। उन्होंने तुझे भी बुलाया है तब वर्षा बोली लेकिन वहां तिलक में तो लड़कियां नहीं जाती है। ना तब अक्षरा की मां बोली जानती हूं लेकिन वो लोग इतने प्यार से बुलाए ना कि मैं मना ही नहीं कर पाई। तब फिर से वर्षा बोली लेकिन मां कल तो इसका एग्जाम है यह कैसे जा सकती है?

yeh rishta kya kehlata hai twist
yeh rishta kya kehlata hai twist

तब अक्षरा बोली हां मां एग्जाम तब फिर से अक्षरा की मां बोलती है मैंने उन्हें हां कर दी है। और उसकी मां चली जाती है तब वर्षा से अक्षरा बोलती है पहली बार मैंने एग्जाम के लिए इतनी मेहनत की है नोट भी तैयार की है/ और अब यह। तब वर्षा बोली अगर इस बार तुमने प्रीमेंस की एग्जाम नहीं दी तो प्रोफेसर तुम्हें फाइनल में एडमिट कार्ड नहीं देंगे याद है न उस दिन मैडम क्या कर रही थी फाइनल्स के लिए वही स्टूडेंट्स अप्लाई करेंगे जो प्रीमैंस  करेंगे चाहे जो भी हो जाए तुझे यह प्रीमेंस के एग्जाम क्लियर करने होंगे। तब अक्षरा बोली लेकिन मैं क्या कर सकती हूं वर्षा उन लोगों ने मुझे बुलाया है अगर मैं नहीं गई तो मां बाबूजी क्या कहेंगे मुझसे कि मेरी बेटी नहीं आई अगर वो लोग नाराज हो गए तो नहीं वर्षा मां कभी नहीं मानेगी।

तभी अक्षरा के चाचा आ जाते हैं और बोलते हैं अक्षरा बेटा एक पेर फिर बोले क्या हुआ तुम दोनों इतनी परेशान लग रही हो और बाहर में अक्षरा के पापा राजश्री से बोले देखो उन्होंने तिलक के लिए बुलाया है। तो बुलाया होगा अब अक्षरा का इंतिहान शुरू हो रहा है हम। उनका परीक्षा तो नहीं छुड़वा सकते ना और फिर लड़कियां तिलक के लिए लड़के वालों के घर जाए ऐसी कोई रसम भी तो नहीं है फिर राजश्री बोली जी लेकिन अब उन्होंने बुलाया है। तो हम मना भी तो नहीं कर सकते हैं ना आखिर वो लड़के वाले हैं तब अक्षरा के पापा बोले आप ठीक कह रहे हैं रस्म नहीं कहता कि लड़की उसके घर जाए लेकिन अगर वो ऐसा चाहते हैं अब हम क्या करें? अक्षरा को एग्जाम के लिए जाने से रोक दें नहीं शौर्य की मां हमारा मन नहीं मानता। तब अक्षरा की मां बोली दिल तो हमारा भी नहीं मानता बहुत दिन से पढ़ाई की है बेचारी कुछ समझ में नहीं आ रहा है क्या करें क्या ना करें?

तब अक्षरा के चाचा आ गए और बोले मुझे लगता है दादा हम दोनों चीज मैनेज कर सकते हैं। और फिर अक्षरा से पूछते हैं कि तुम्हारा पेपर 10:00 बजे से 1:00 बजे तक है ना। अगर हम उन लोगों से विनती करें कि वो तिलक की रस्म शाम को रख ले तो अक्षरा अपना पेपर भी दे सकती है और वहां जा भी सकती है।

yeh rishta kya kehlata hai twist
yeh rishta kya kehlata hai twist

उधर नैतिक के घर वाले पंडित जी को बुलवाकर मुहूर्त निकलवा लेते तब पंडित जी बोले कल दोपहर 12:00 बजे का मुहूर्त अति उत्तम है कल 4:00 बजे शाम से राहुकाल प्रवेश कर जाएगा जिसके बाद कोई भी शुभ काम करना अच्छा नहीं होगा। फिर नैतिक के बड़ेपापा बोले ठीक है पंडित जी आप तैयारी चालू करो कल यह रस्म होगी ठीक 12:00 बजे तब नैतिक की मां बोली जी कल दोपहर के रसम में तो उन्हें खाने पर भी बुलाना चाहिए ना मुन्ना के ससुराल वाले आ रहे हैं कोई कमी नहीं रहना चाहिए। और फिर कई तरह के पकवान के नाम लेने लगती है। तब नैतिक की बड़ी मां बोली बड़ी बहू तुम इतनी परेशान क्यों हो रही हो? सब बैठकर तय करेंगे क्या बनाना है वैसे कल महाराज जी भी आ रहे हैं फिर वो सब संभाल लेंगे और पंडित जी आज्ञा लेकर चले जाते हैं।

तब अक्षरा के पापा राजपन्ना को फोन लगाकर बोलते हैं राज बाबू मैं बिशंबर बोल रहा हूं तभी इधर से राज पन्ना बोले समधी जी अभी हम आप ही को कॉल करने वाले थे बताइए कैसे हैं? आप हमारे लायक कोई सेवा कोई हुकुम है। अक्षरा के पापा बोले यह आप कैसी बातें कर रहे हैं राज बाबू सेवा का मौका तो आप हमें देंगे और हम क्या हुकुम करेंगे हम तो विनती कर सकते हैं बस। तब फिर नैतिक के पापा बोले जी बताइए तब अक्षरा के पापा बोले जी वो शंकरी ताई आई थी तिलक की रस्म की बात के लिए हम लोग कल पहुंच जाएंगे अगर कल का मुहूर्त है तो यह रस्म कल ही पूरी कर लेंगे लेकिन एक गुजारिश थी। आपसे कल दिन में हमें कुछ काम है। अगर तिलक की रस्म शाम को रखे तो शाम के 5:00 बजे के बाद आप जिस समय भी हुकुम करेंगे हम पहुंच जाएंगे तब नैतिक के पापा बोले शाम को।

तब अक्षरा के पापा बोले नहीं नहीं अगर कोई परेशानी है तो बता दीजिए तब नैतिक के पापा बोले हमारे दद्दा कोई भी शुभ काम करने से पहले पंडित जी से सलाह लेते हैं। और हमारे पंडित जी ने यह कहा है कल दोपहर के 12:00 बजे का मुहूर्त सबसे अच्छा है। इसलिए कल शाम को रसम करने में अड़चन है वैसे कोई आप काम हो तो बताइए 1 दिन के लिए टल भी सकती है। लेकिन कल शाम को नहीं तब अक्षरा के पापा बोले जी नहीं रसम का दिन डालना अच्छा नहीं होगा। तब नैतिक के बड़ेपापा राज पन्ना से फोन मांगते हुए उनसे बोलते हैं राधे कृष्णा समधी जी। इधर से अक्षरा के पापा भी राधे कृष्णा बोल कर पूछते हैं कैसे हैं आप? तो फिर नैतिक के बड़ेपापा जी बोले वो क्या है ना कि हमारे पंडित जी बहुत ज्ञानी पुरुष हैं। उन्होंने कल 12:00 बजे का मुहूर्त निकाला है। तो क्या कल आप 12:00 बजे तक पहुंच जाएंगे ना वो क्या है ना कि हमें एक ही लड़का है इसलिए हम चाहते हैं कि उसकी रसम में कोई भी कमी ना रहे। तब अक्षरा के पापा बोले नहीं नहीं समधी जी हम सारी रस्में पूरी करेंगे ठीक है कल 12:00 बजे तक हम लोग पहुंच जाएंगे।

yeh rishta kya kehlata hai written
yeh rishta kya kehlata hai written

नैतिक की बड़ी मां बोली चलो छोटी दुल्हन कल की खास तैयारी भी करनी है तब नैतिक की मां बोली वो भाभी मां बहू के लिए जेवर और गहने भिजवाने होंगे कौन सी साड़ी भेजूं? मैं कब से इतनी सारी साड़ियां जूटा रही हूं अपनी बहू के लिए।

इधर अक्षरा के पापा परेशान होकर बोले वो लोग कल दोपहर के 12:00 बजे ही जोर दे रहे हैं। उनके पंडित जी ने मुहूर्त निकाला है। और फिर अक्षरा से माफी मांगते हुए बोले अक्षरा हम उन्हें मना नहीं कर पाए तब अक्षरा की मां बोली जी क्या करें अब।

उसके बाद अक्षरा अपने कमरे में जाकर कुछ प्रश्नों के answers लिख रही थी। तभी वर्षा बोली जल्दी करो अक्षरा इतना धीरे लिखे गी तो कैसे होगा। तब अक्षरा बोली मुझसे नहीं होगा वर्षा बोली होगा कोशिश तो कर किसी भी तरह कल 11:30 बजे तक तुम्हें अपना पेपर पूरा करना है। कर तब अक्षरा बोली मुझे समझ में नहीं आ रहा यह सब कैसे कर पाएंगे नहीं वर्षा मुझसे नहीं होगा। तब अक्षरा की मां बोली बेटा तुम कर सकती हो मैं जानती हूं देख तुझे अपना पेपर अच्छा करना है जल्दी लिखना और 12:00 बजे तक लड़के वाले के घर भी जाना है समझ रही है ना। इसीलिए कह रही हूं मैं प्रैक्टिस तो कर फिर अक्षरा बोली लेकिन वर्षा अगर पेपर लंबा हुआ तो, अगर मुझे सारे आंसर नहीं आते होंगे, तो अगर मुझे सोचने में टाइम लग गया तो? तब वर्षा बोली देख तू ऐसे सोच सोच कर क्यों घबरा रही है कि ऐसा होगा तो क्या होगा वैसा होगा तो क्या होगा हिम्मत रख कोशिश तो कर सब ठीक हो I am sure तेरा पेपर जल्‍दी खत्‍म हो जाएगा।

तब अक्षरा की मां बोली हां बेटा सब ठीक हो जाएगा और बाल गोपाल पर आस्था रख। तब अक्षरा की दादी बोली बड़ी बहू तुम यह जो कुछ भी कर रही हो मुझे बिल्कुल ठीक नहीं लग रहा तुम इस बेचारी के पीछे क्यों पड़ रही हो इस हाल में कल वो अपनी परीक्षा कैसे देगी? घबराहट में अगर उसका पर्चा खराब हो गया तो। तब अक्षरा की मां बोली मां मुझे भी तो अच्छा नहीं लग रहा है अक्षरा के साथ ऐसा करने में लेकिन क्या करूं लड़के वालों के घर भी तो समय पर पहुंचना जरूरी है। ना तब अक्षरा की दादी बोली यह लड़के वाले भी बड़े अजीब होते हैं अब ऐसा भी कोई रिवाज नहीं है तो लक में अक्षरा को क्यों बुलाया है  किसने बुलवाया?

yeh rishta kya kehlata hai episode today
yeh rishta kya kehlata hai episode today

उधर नैतिक अक्षरा की फोटो को अपने लैपटॉप में देखते हुए अक्षरा के साथ बिताए पुरानी यादों को याद कर रहा था। कि तभी नैतिक की मां आई और बोली बहुत काम है अभी बहुत सारी तैयारियां भी करनी है। तब नैतिक से बोली जानता है मुझे तो डर था कि वो लोग मना कर देंगे तब नैतिक बोला कौन?  तब नैतिक की मां बोली अक्षरा के घरवाले कौन अब ऐसी रीती तो है नहीं कि लड़की रासम में आए लड़के वालों के घर। तेरा सारा का सारा काम मुझे ही करना पड़ता है और वो भी कायदे से तब नैतिक पूछा वो काम हो गया? तब उसकी मां बोली हां हो गया रख दी मैंने तेरे कपड़े और कुछ देर बाद बैठकर बोली वो आ रही है अक्षरा भी आ रही है कल। वो लोग मान गए कल उसे जी भर के देख लेना। तब नैतिक बोला मां मैं क्यों आप ही देखिए। मैनें इसीलिए कहा था वो भी आ जाए आकर अपनी सास से मिलले ससुराल वालों को जान ले समझ ले। इसीलिए और जितना यहां आएगी उतनी जल्दी अपनी जिम्मेदारियों को भी समझेगी और क्या बस। तब नैतिक की मां बोली अच्छा जी मेरा कितना ख्याल है तुझे मैं सब जानती हूं कल उसे मिलेगा फिर शादी के बाद समझा अक्षरा को मैंने बुला तो लिया है लेकिन दद्दा जी कहीं नाराज ना हो जाए होने वाली बहू नहीं आती है ना तिलक के रसम में? तब नैतिक बोला आप सब कुछ ताई मां पर छोड़ दीजिए वो सब कुछ संभाल लेंगे पिछली बार भी उन्होंने ही हम दोनों को मिलवाया था। नैतिक की मां बोली पिछली बार तो दत्ता जी को खबर भी नहीं हुई थी लेकिन इस बार मैंने अभी तक भाभी मां से बात भी नहीं की है। तब नैतिक बोला कल तक का टाइम है ना आप सोच लीजिए कि भाभी मां को मनाने में कितना टाइम लगता है। और अगर एक बार वो मान गई तो फिर किस बात की टेंशन तब नैतिक की मां बोली वो तो है मैं बात करती हूं उनसे तुम तो दद्दा जी को जानते हो ना। सूरज पश्चिम से उग सकता है लेकिन रीति रिवाज नहीं बदल सकती है तब नैतिक बोला जानता हूं मैं और मैं यह भी जानता हूं आप मेरे लिए सूरज को पश्चिम से उगा सकते हैं। और नैतिक की मां मुस्कुरा कर वहां से चली जाती है।

इधर अक्षरा की मां पूजा करके अक्षरा को आरती दे रही थी और अक्षरा को तिलक लगाया और फिर सभी ने थोड़ी हंसी मजाक की उसके बाद दादी ने दही खिला कर आशीर्वाद देते हुए बोली अब कोई टेंशन मत लेना तुम लोगों का पर्चा बहुत अच्छा जाएगा। अब जाओ तुम लोगों को देर भी हो रही है। फिर अक्षरा की मां बोली 11:30 बजे तक पेपर खत्म कर लेना और बाहर आ जाना। फिर वर्षा बोली मां आप चिंता मत कीजिए मैं अक्षरा को वहां से टाइम पर ले आऊंगी। फिर अक्षरा के पापा बोले सही टाइम पर पहुंचने के लिए सही टाइम पर निकलना भी जरूरी होता है। और हंसते हुए बोले अब आप लोग जाइए देर हो रही है और फिर अक्षरा वर्षा वहां से निकल जाती है।

Yeh Rishta Kya Kehalata Hai Tv Serial episode 55
Yeh Rishta Kya Kehalata Hai Tv Serial episode 55

अब बाहर निकल कर शौर्य वर्षा से बोलता है इस एग्जाम की वजह से आपने बहुत जुर्म किया है हम पर रात भर सोने नहीं दिया 2:00 बजे आंख खुली तो पढ़ाई कर रही है 4:00 बजे आंख खुली तो पढ़ाई कर रही है अगर इतनी ध्यान मुझ पर भी दी होती। तब वर्षा बोली साल के 364 दिन ध्यान आप ही पर रहता था। इसका इसका हिसाब नहीं रखा। तब शौर्य बोला अच्छा ठीक है अब जल्दी से जाओ और अच्छे से एग्जाम देना और फिर अच्छे से मार्क्‍स  आएंगे ना तो सारे हिसाब किताब बराबर हो जायेंगे। all the best.

अक्षरा बोली सब देख रही हूं दादू मुझे विश भी नहीं किया तब शौर्य बोला आपको तो दो-दो बार Good luck  बहन जी एक बार एग्जाम के लिए एक बार लड़के वाले के घर टाइम से पहुंचने के लिए और फिर वर्षा से बोला वैसे तुमने देखा वर्षा यह दोनों एक दूसरे से मिलने के लिए कितने बेचैन हुए जा रहे हैं और सभी हंसकर चले गए।

आज का yeh rishta kya kehlata hai ending होता है। अगले एपीसोड yeh rishta kya kehlata hai new episode, yeh rishta kya kehlata hai written updates के लिए यहाँ क्लिक करें ।

yeh rishta kya kehlata hai live , yeh rishta kya kehlata hai latest update देखने के लिए star plus yeh rishta kya kehlata hai online पर या yeh rishta kya kehlata hai visit hotstar पर जाऍं।

निष्‍कर्ष :-

इस पोस्‍ट मे हमने यह देखा कि किस तरह से अक्षरा और वर्षा कॉलेज गई और वहॉं नैतिक से मिली और क्‍या बात की और आगे का क्‍या प्‍लान है अगल पोस्‍ट में देंखेंगे yeh rishta kya kehlata hai written update, yeh rishta kya kehlata hai upcoming story, yeh rishta kya kehlata hai latest news, yeh rishta kya kehlata hai future story, yeh rishta kya kehlata hai upcoming twist जानने के लिए हमारे पोस्‍ट को पढते रहिए।

 

Related Posts

Click Here To Translate
error: Content is protected !!