radha krishna painting

Watch Radha Krishna Season 1 episode Best story

Watch Radha Krishna Season 1 episode Best story

राधाकृष्ण 5.

Radha Krishna Episode ३- Watch Serial Love Story यह एक राधा कृष्ण episode पर अधारीत कहानी हैं जो की पढ़ ने में बहुत ही दिलचस्प लगता हैं और इसे अलग – अलग मिडया के माध्यम से देखा जा सकता हैं, जैसे – trp of indian serials , adha krishna on hotstar, radha krishna serial hotstar , YouTub इत्यादि चैनल के माध्यम से इस कहानी को देखा जा सकता हैं।

आप इस पोस्ट में radha krishna story के बार में जानेंगं और यह radha krishna serial पर अधरित हैं। radha krishna love story बहुत ही दिलचस्प हैं। यदि आप इस radha krishna serial को वीडियों के माध्यम से दखना चाहते हैं। तो आप अपने मोबाइल में भी दखे सकते हैं और किस के माध्यम से देखना हैं आपको बतादे हैं। जैसे – radha krishna tv serial, radha krishna serial hotstar, और hotstar radha krishna episode, radha krishna serial star bharat,

तो दोस्त आज की पोस्ट में हम जानेंगे किस तरह से राधा और कृष्ण एक दूसरे से मिलते हैं तो दोस्त चलते हैं इस पोस्ट की ओर

radha krishna director

radha krishna directorआज के पोस्ट में कंस अपने घर में पूजा करा रहे थे तभी कृष्ण के द्वारा फेंके गए कंकर को कंस के हवन को भांग कर देता है कंस कहते हैं फिर से मेरे मार्ग में आए तो यह यज्ञ देवकी के आठवें पुत्र को खोज करने के लिए था। पर तुम नहीं चाहते कि यह मैं पता लगा लूं कि वह भविष्यवाणी वाला बालक कौन है और कहां है इसलिए उसने अपने खेल से मेरे यज्ञ को भांग कर दिया !

यदि आप radha krishna serial song , radha krishna serial ringtone, radha krishna status, radha krishna serial title song  को देखना पसंद करते हैं आप YouTube से देख सकते है।

Watch Radha Krishna Season 1 episode Best tips इस पृथ्वी के पालनहार हो तुम तो ठीक है। तुम्हें किए का दंड पृथ्वी पर सबको मिलेगा तभी कंस आक्रोल से बोला यह पात्र कहां से बनकर आया था। आक्रोल ने जवाब दिया जी महाराज यह पात्र बरसाने के कुम्हार ने बनाया था। तुरंत कुम्हार को बुलाते है कुम्हार आते ही रोने लगता है और कंस कुम्हार से कहता है जानते हो क्या कर दिया तुमने तुम्हारे बनाये पात्र के कारण मेरा यज्ञ भंग हो गया सारा परिश्रम भंग हो गया यदि यज्ञ पूर्ण होता तो वह बालक सामने आता उसकी याहुती इस यज्ञ में देता तुम्हारे कारण याहूती हो नहीं पाई तो यज्ञ बिना आहुती रह जाए महाराज कंस को ठेस पहुंचेगी।

नोट-

यदि आप राधा कृष्ण को सेशन मिडिया या indian television world के माध्यम से देखना चाते हैं तो देख सकते हैं जैसे –

trp of indian serials top hindi serials

  1. radha krishna tv serial
  2. radha krishna serial star bharat
  3. radha krishna hotstar
  4. star bharat serial radha krishna
  5. स्टार भारत टीवी चैनल
  6. radha krishna serial wiki
  7. radha krishna yesterday episode,
  8. radha krishna all episode,
  9. radha krishna serial hotstar,
  10. radha krishna hotstar

इसलिए इस यज्ञ में तुम्हारी आहुति दी जाएगी फिर उसके बाद कुम्हार को छोड़ देते हैं और कंस कहते हैं तुम्हारा आहुति इतना आसान नहीं रहेगा जितना भी कुम्हार वासी है तुम्हारे बनाए गए पात्र से उन सभी कुम्हार को दंड मिलेगा आज से तुम्हारा परिवार और बरसाने के सभी कुम्हार बहिष्कृत हुआ ना तुम पात्र बनाओगे। बेचोंगे यदि जीवन यापन के लिए किसी दूसरे राज्य में बसना के लिए भी अनुमति नहीं है। यदि तुमसे कोई पात्र कर दे और तुम्हारे सहायता करें तो वाह महाराज कंस के कोप का भागी होगा। तभी सभी को समझ में आएगा महाराज कंस का यज्ञ कराने का क्या योग्य था।

radha krishna rangoli
radha krishna rangoli

radha krishna love story-

तभी कृष्ण कहते हैं सत्य में बड़े प्यारे हो मामा धन्यवाद मेरे और राधा मिलन के कारण बनने के लिए।

फिर कृष्ण अपने पिता से कहते हैं आज हम मटकी खरीदने बरसाना जाएंगे। कृष्ण बरसाना अपने मित्र के साथ चल देते हैं कृष्ण के मित्र बोलते हैं ऐसा पहले कभी नहीं हुआ कि तुम मटकी खरीदने बरसाना जाएगा। ऐसा क्यों कृष्ण कहते हैं, अब हम बड़े हो गए हैं पिताजी के कामों में थोड़ा बहुत हाथ बटा देंगे। कृष्ण के मित्र बोलते हैं अपने बातों में ना अपने भोले भाले बाबा और मैया को फसाना मुझे नहीं भरे आए हाथ बटाने वाले।

radha krishna kannada serial-

तुम यह कहो ना जिसका हाथ थामना है, उसे देखने जा रहे हो क्यों तुमसे मिलने राधा भी आ रही है, पर होगा क्या कान्हा उसे याद तो आओगे नहीं कृष्ण बोलते हैं। उसे याद दिलाना जा कौन रहा है मैं तो चाहता हूं मुझसे मिलने के पश्चात वो मुझे भुलाने का प्रयास करें तब मित्र बोलते हैं उससे क्या बदलेगा । कृष्ण जवाब देते हैं, राधा की जीवनधारा जिसे जितना भुलाने की प्रयास करो वह उतना ही याद आता है। उसके बाद वह बांसुरी बजाने लगते हैं तब जाकर राधा दौड़ते हुए घर से बाहर निकलती है, थोड़ी देर में राधा की मां पीछे से आते हैं राधा से बोलती हैं राधा यहां क्या फिर जाकर राधा की नजर बहुत सारे जुड़े हुए आदमी पर नजड़ पड़ती है और वहां जाते हैं तो देखती है। उनके पिता के सामने कुम्हार कहते हैं कंस ने हमें मटकी बेचने से मना किया है, तो क्या होगा हमारे सब परिवार का और जो उसके साथ कंस ने किया था वह सब बात बृषभान को बता देते हैं और बताते हैं कैसे पालन होगा हमारे परिवार को हम सब तो भूखे मर जाएंगे आप तो हमारे मुखिया हैं विपत्ति में आप साथ नहीं देंगे तो कौन देगा बृषभान कहते हैं हम क्षमा मांगते हैं आपसे की कंस के खिलाफ हम खड़े नहीं हो सकते हैं।

यदि आप फुल radha krishna episode 1 से अंत तक देखने के लिए आप radha krishna hotstar , radha krishna serial star bharat cast,  adha krishna on hotstar पर जाकर देख सकते हैं।

radha krishna hindi serial-

कुम्हार कहते हैं आप तो गांव के मुखिया हैं आप कुछ कर सकते हैं तो राधा जवाब देती हैं वही तो बात है कि यह गांव की मुखिया है यह आपकी सहायता नहीं कर सकते क्योंकि अभी आपकी सहायता करेंगे तो कंस की दृष्टि पूरे बरसाने में लग जाएगी किंतु मैं ना मुखिया हूं ना किसी पद का सहा हम करेंगे तुम्हारी सहायता तब बृषभान कहते हैं यह कोई खेल नहीं है राधा महाराजा कंस के विरोध कोई नहीं जा सकता। राधा कहती है क्या दोष है इनका जो महाराजा के लिए पात्र बनाएं। एक पात्र को टूट जाने का दंड इनके परिवहन और बच्चों को क्यों दिया जाएगा। जीते जी मार डाला इन्हें महाराज कंस ने ना ही यहां रह कर कोई काम कर सकते हैं ना यहां से बाहर जा सकते हैं यदि यह बरसाने में भूख से बिलख कर मरेंगे क्या अन्य का एक भी दाना खा पाएंगे बाबा । तभी धामा आते हैं बोलते हैं राधा से आप सीमा तोर रहे हैं राधा दीदी आप बाबा लाडली हैं इसका अर्थ यह नहीं आप भरी सभा में बाबा के विरोध जाए मथुरा के महाराज के विरोध जाना रिती नहीं है। तब राधा बोलती है बाबा के विरुद्ध कभी नहीं जा सकती धामा पर इन असहाय को साथ देना चाहती हूं अब बात रही रिति कि समाज की रीति एक शक्तिशाली व्यक्ति ही निश्चित करता है निर्मबल को एक बोझ समझकर बस उन्हें धोना पड़ता है।

radha krishna locket
radha krishna locket

radha krishna serial-

मझे आज बोलना पड़ा क्योंकि बाबा ने ही सिखाया है उचित और अनुचित में अंतर समझ कर उचित का साथ देना चाहिए अब आप ही बताइए बाबा क्या इन्हें भूखे मरने देना उचित होगा। फिर धामा बोलते हैं सुन रहे हैं बाबा समझाइए जी जी को जोकि पूरे परिवार को मान सम्मान भांग कर देगा। राधा बोलती है मेरा मानना यह है मेरा यह प्रयासों से बाबा की मान सम्मान के नहीं बल्कि दिए गए कर्तव्य की और बच्चन की भी रक्षा होगी। वृषभान बोलते हैं किस कर्तव्य और किस वचन की बात कर रही है राधा, राधा बोलती हैं यह सभी लोग आपके सामने आशा लेकर आए हैं इनकी सहायता करने से ही आपका मान्य समान बढ़ेगा हर मुखिया का कर्तव्य होता है अपने लोगों की रक्षा हर मुखिया पद ग्रहण करते समय अपने लोगों को सुरक्षा करने की वचन देता है जो आपने भी लिया है अपने ही हमें सीख दी है तो आज आपकी वचन कैसे टूटने दु ।

radha krishna written update-

तब बृषभान राधा से कहती है आज तक तुम्हें आशीर्वाद देते आया हूं आज कैसे धन्यवाद कहूं कभी-कभी माता पिता वह सीख भूल जाते हैं जो जीवन भर संतान को देते हैं आज तुमने वह सीख याद दिला कर हमें अपराध करने से रोक दिया बोलो राधा कैसे करें इनकी सहायता राधा बोलती हैं अब यह प्रयास करें कि महाराजा कंस को इसकी समस्या के बारे में समझा सके तब तक के लिए इसकी बनाई पात्र हॉट मैं बेचने मैं जाऊंगी तब जाकर बृषभान क्रोध हो जाते हैं बोलते असंभव हैं। तब राधा बोलती है बाबा विश्वास है ना मुझ पर बृजभान बोलते हैं तुम पर हैं मगर कंस के सैनिक पर नहीं राधा बोलती हैं उन्हें मालूम ही नहीं होगा की पात्र बरसाने से आई हुई है। अनुमति दीजिए ना बाबा बृषभान बोलते हैं एक शर्त पर तुम्हारे साथ कुछ लोग जाएंगे राधा बोली स्वीकार है।

नोट-

यदि राध कृष्ण फोटो को देखना चाहते हैं जैंसे

  1. radha krishna serial images
  2. radha krishna serial images hd
  3. radha krishna png
  4. radha krishna painting
  5. radha krishna holi
  6. radha krishna drawing

krishna radha-

radha krishna written
radha krishna written

तब राधा पात्र बनाने के लिए चल जाते हैं पात्र बनाते समय उससे पात्र सही रूप से नहीं बन पाते हैं तो काकी से कहती है काकी यह क्यों नहीं बन पाता है काकी बोलती है वस्तु का आकार नहीं इसे बनाने के लिए सोच का आधार बड़ा होना चाहिए बेटियां तब जाकर राधा की सहेली विशाखा बोलती है जो हम कर रहे हैं उचित है राधा बोलती है हां विशाखा ऐसा हमें क्यों आभास हो रहा है यह घटना किसी शुभ यात्रा को जन्म देने वाली है। उसके बाद कृष्ण बैलगाड़ी से बरसाना के लिए निकल पड़ती है और रास्ते में राधा के ध्यान में डूब जाते हैं। कृष्ण के मित्र गाड़ी को धीरे धीरे चलाने लगते हैं कृष्ण  बोलते हैं क्या बात है दाऊ आज कसरत नहीं हुई की बैल को भोजन नहीं मिली ऐसा नहीं लगता बैलगाड़ी अधिक धीरे चल रही है। फिर दाऊ बोलते हैं आज मेरा मन शीतल हवा खाते-खाते जाने का मन कर रहा है किंतु तुम्हारा मन शीघ्र पहुंचने के लिए क्यों मचल रहा है कृष्ण बोलते हैं यही तो प्रेम की विशेषता है दाऊ अब देखिए ना सागर से मिलने के लिए नदी लंबी यात्रा का सामना करना पड़ता है जब सागर सामने हो धीरज कथग छुट जाता है radha krishna love बस और प्रतीक्षा नहीं कृष्ण चुटकी बजाते हैं और बैलगाड़ी तेजी से भागने लगते हैं दाऊ बैलगाड़ी को रोकने का प्रयास करता है कृष्ण बोलता है दो प्रेमियों के बीच बाधा नहीं बनते इस आगे जानने के लिए निचे दिए यऐ लिंक पर किलिक रकें।

Radha Krishna Episode 4 Hindi serial |Best love story|

Related Posts

Click Here To Translate
error: Content is protected !!