dam

Pong Dam Nagarjuna Sholiyar And Salal Dam Best No.1 Ideas

Pong Dam Nagarjuna Sholiyar And Salal Dam Best No.1 Ideas

आज के इस पोस्‍ट में हम pong dam, pong dam on which river, Nagarjuna Sagar Dam, Sholiyar Dam, salal dam के बारे में जानेंगें । इस पोस्‍ट मे हम देखेंगें कि ये सभी डैम किस राज्‍य के किस जिले में है। इस डैम को कब बनवाने का काम कब शुरू किया गया और इस डैम को बनवाने में कितना समय लगा। इन डैम की लम्‍बाई कितनी है।इन सब के बारे में जानेंगें। तो चलिए आज के अपने पोस्‍ट के तरफ चलतें हैं।

 pong dam

pong dam himachal Pradesh में है। । इस बांध को बनाने का प्रस्ताव आज से लगभग 95 साल पूर्व 926 में रखा गया था। इस बांध का निर्माण कार्य साल 96 में शुरू किडैम गया। इस बांध को बनाने में लगभग 3 साल लग गए। और यह साल 974 में बनकर तैडैमर हो गया।

pong dam on which river

Pong Dam डैम ब्‍यास नदी पर बनाडैम गया। पोंग बांध का उद्घाटन साल 974 में किडैम गया। उस समय इस बांध को देश का सबसे ऊंचा बांध होने का गौरव प्राप्त था। और आज भी यह समुद्र तल से 430 फीट ऊंचाई पर देश का सबसे ऊंचा अर्थफिल बांध है। । इसकी कारीगरी और रखरखाव को देखकर बहुत सारे लोगों को है। रानी होती है। । विस्तृत ब्‍यास नदी को समेटे हुए इस पोंग बांध की ऊंचाई 436 फीट और लंबाई 640 थी इस बांध के कुल क्षमता तीन करोड़ 55 लाख क्यूबिक मीटर है। जल की इतनी भारी क्षमता के लिए इसके ऊपर बनाई गई दीवार की मोटाई 45 फीट है। इसकी मजबूत आधार पर इस बांध की चौड़ाई लगभग 200 फीट हो जाती है। इस बांध में जल की निकासी के कुल 6 द्वार बनाए गए हैं। जिसकी डिस्चार्ज क्षमता 2375 क्यूबिक मीटर प्रति सेकंड है। ।

इस बांध के निर्माण के समय कुल 5 सुरंगों का निर्माण किडैम गया था जिसमें 3 सुरंग पावर मशीनों को पानी उपलब्ध कराती है। और दो सुरंग सिंचाई के लिए पानी उपलब्ध कराती है। । इस बांध के जरिए हिमाचल प्रदेश पंजाब और राजस्थान में सिंचाई के लिए पानी प्रदान किडैम जाता है। । इस बांध के निर्माण के बाद यहां के आसपास के लोगों जीवन में बहुत बड़ा बदलाव आडैम।
pong dam talwara जलाशय महाराणा प्रताप के नाम से भी जाना जाता है। यहां पूरे देश में से पक्षियों के अनेक प्रजाति पाई जाती है। इसलिए इसे महाराणा प्रताप पक्षी अभडैमरण्य के नाम से भी पूरे विश्व में जाना जाता है।
इस बांध का बनवाने का मुख्य उद्देश्य बिजली और सिंचाई करना है।
इस डैम से 396 मेगावाट बिजली की उत्पन्न की जाती है। । यहां से बनाई गई बिजली का उत्पादन और वितरण बांध के मुख्य कंट्रोल रूम से की जाती है। ।
बांध की देखरेख के लिए BBMB के इंजीनियर और अधिकारियों की एक टीम कार्यरत है। जो समय समय पर बांध का मुआयना करते रहते हैं और ध्यान रखते हैं। कि बिना किसी रूकावट के बांध लगातार काम करता है। ।
बांध और यहां के नजदीकी जलाशय को देखने के लिए देश विदेश से भी लाखों की संख्या में पर्यटक आते रहते हैं।
pong dam water levelPong Dam
पोंग बांध की वाटर लेवल 2020 के अनुसार 960 और निकासी 5 हजार चार क्यूसेक थी बांध का लेवल 335.34 फिट हो गया।

pong dam lake
pong dam lake

 Nagarjuna Sagar Dam

डैम डैम आंध्र प्रदेश नलकोंडा और गुटुर जिले के सीमा के पास बना डैम है। यह स्थान यहां की राजधानी से लगभग 80 किलोमीटर दूर है। nagarjuna sagar dam height लगभग 124 मीटर है। और लंबाई 55 मीटर है। इस बांध में एक किनारे से दूसरे किनारे तक जाने के लिए सुरंग बनाई गई है। । यह सुरंग एक के ऊपर दूसरे बनी हुई है। इस इस पार से उस पार इन सुरंगों की सहायता से जा सकते हैं। इस रंगों को बनाने का एक उद्देश्य है। बांध में कभी कभी किसी स्थान पर कमजोर दरारें आ जाती है। और वहां से पानी टपकने लगता है। और इन्हीं सुरंग से पता लगाकर पर इंजीनियर उन्हें मजबूत बना देता है। बांध के ऊपर से सड़क बनाई गई है। यह सड़क नलकोंडा जिले से गुटुर जिले को जोड़ती है। यह हैदराबाद से गुटुर जाने का मार्ग है। यहां बांध बनने से एक विशाल क्षेत्र नागार्जुन पानी में डूब गया। नागार्जुनकोंडा नागार्जुन का विश्वविद्यालय था एक याद के रूप में रह गया है।

nagarjuna sagar dam is on which river

यह डैम कृष्णा नदी पर बनाया गया है। इस डैम का एक किनारे की पानी तेलंगाना के क्षेत्र में सिंचाई के रूप में काम आता है। तो दूसरे किनारे की पानी आंध्र प्रदेश को पेयजल के रूप में काम आता है। इस डैम से विद्युत उत्पन्न करने के लिए दोनों किनारों पर विद्युत घर बनाया गया यह बिजली घर आंध्र प्रदेश के बिजली की समस्या को काफी हद तक कम करता है। yah Dam 816 मेगावाट बिजली उत्पन्न करता है।

यह बांध पर्यटक को भी अपनी और आकर्षित करता है। बांध के नहीं बनने से कृष्णा नदी का पानी व्यर्थ होकर समुद्र में चला जाता था। और किनारे पर बसे गांव के लोगों को बाढ के कठिनाइयों का सामना करना पड़ता था। फसल मारी जाती थी। इस बांध को बनने से यहां की किसान साल में तीन तरह की फसलें उगाते हैं।
इस बांध को बनवाने का कार्य 1967 में शुरू कि गया। इस बांध को बनवाने मैं उस समय 132 करोड़ 32 लाख रुपए का खर्चा आया था।

hotels near nagarjuna sagar dam

इस डैम के नजदिकी कुछ हॉटल ritha Vijay Vihar Hotel, Hotel Swagath Grand Miryalaguda, The Royale Palace Hotel and Resort, Ettipotala Water Falls, Hotel Ram Saroj Palace.

nagarjuna sagar dam water level

nagarjuna sagar dam water level today अगस्‍त 2021 को 589.72 फिट है। लेकिन यह बदलते रहता है यह हमेशा ए‍क जैसा नही रहता है।

salal dam

सलाल डैम का निर्माण कार्य 970 में चालू हुआ था और यह 987 में बनकर तैयार हुआ। इसे बनवाने में 928 करोड रुपए की लागत आई। इस डैम की ऊंचाई लगभग 370 फीट है। इस डैम से 690 मेगावाट बिजली की उत्पत्ति की जाती है।

nagarjuna sagar dam hd images
nagarjuna sagar dam hd images

salal dam on which river

यह डैम जम्मू-कश्मीर के रियोसी जिले में चिनाब नदी पर बनाडैम गया है। यह Dam पर्यटक को अपनी और आकर्षित करता है। अरे यहां का ब्लूप्रिंट देखने का नजारा ही बहुत ज्यादा आकर्षण है।

salal dam in india map

salal dam in india map
salal dam in india map

salal dam location on map :- salal dam जम्‍मु कश्‍मीर के शेप रोड सलाल 182-312 में स्थित है।

salal dam photo
salal dam photo

Sholiyar Dam

यह डैम चलाकुडी नदी पर बनाया गया है। इस डैम की जल भंडारण क्षमता 60 फीट है। इस डैम का निर्माण एक टीम के द्वारा किया गया। जो उस क्षेत्र का सबसे लोक प्रिय इंजीनियर के पलानिस्वामी के अधीन काम कर रहा था। sholayar dam kerala के पास तमिलनाडु में बनाया गया है। इस डैम को बनवाने का मुख्य उद्देश्य खेती की सिंचाई और बिजली उत्पादन करना था। इस बांध की ऊंचाई लगभग 66 मीटर और चौड़ाई लगभग 430 मीटर है। इसकी सैडल की ऊंचाई लगभग 259 मीटर और चौड़ाई लगभग 109 मीटर है। यहां से 8 किलोमीटर दूरी के अंदर ही एक बहुत ही खूबसूरत जगह है। जो तीन नदियों का संगम है। जो इस बांध के पार बहती है।

sholayar dam valparai

वालपराइ पश्चिमी घाट की पहाड़ियों में स्थित एक नया पर्यटन स्थल है। यहां के जंगलों में चाय की खेती की जाती है। यहां आस-पास में कई नदियां, बांध, घाटी, झड़ने, घास के मैदान, पहाड़, वनस्पति और कई प्रकार के जीव नजर आते हैं और इन्हें देखकर पर्यटक बहुत ही आनंदित होते हैं। परंतु इस बांध को देखने के लिए एक विशेष प्रकार की अनुमति की आवश्यकता होती है।

valparai to sholayar dam distance दुरी लगभग 20 किलोमिटर है।

sholayar dam image
sholayar dam image

 

Bhakra Nangal Tehri And Idukki Dam History Best no.1 Ideas

 

निष्‍कर्ष :-
आज के इस पोस्‍ट में हम pong dam, pong dam on which river, Nagarjuna Sagar Dam, Sholiyar Dam, salal dam के बारे में जाने। उम्‍मीद करता हुं कि आपको यह पोस्‍ट अच्‍छा लगा होगा। आपको यह पोस्‍ट कैसा लगा कंमेंट बॉक्‍स में कंमेंट कर अवश्‍य बताएं ।

Related Posts

Click Here To Translate
error: Content is protected !!